Journey With Myself Promotion : Promote to win a top level domains + Hosting!

This is a promotional giveaway where you could win the following prizes: Top Level Domains [Like *.com *.org *.in etc] Premium hosting for 1 year Many domains This promotion will run from Sunday, 12th October’ 2011 to 31st October’ 2011 00:00 hours (mid-night). Result of the promotion will be announced on within a week and prizes will be distributed to all the winners in the next 3 weeks’ time.

Every Day is A New Day

New day.. New office location.. New Seat.. So many new things happened to me before this new year comes. Newness always brings enthusiasm and excitement. Hope this New Year also comes with hand full of surprises as Every Day is a New Day indeed..!!!

12 Most Famous Love Stories of All Time

When: 31 BC Where: Rome and Egypt What’s So Special about Their Love: These two had a love so strong, war was waged against them to break them up. When Mark Antony left his wife, Octavia, for the mesmerizing Cleopatra, Octavia’s brother Octavian brought the army of Rome to destroy them. These two lovers were so entranced with each other that they committed suicide rather than be apart- the ultimate Romeo and Juliet true love story.

Mahatma`s Teachings

I like both the movies MunnaBhai MBBS and Lage Raho MunnaBhai. I dont know about the Gandhi`s political decisions but I believe in his teachings to the nation.

Universal Truth about Boys............lolz!!

Now i truly admit, Google is very very very smart......

Tuesday, November 8, 2022

Vivah Sanskaar


 


Hinduism is a way of life. Thousands of year ago Samskaras or sacraments were instituted by Hinduism to bring sanctity and stability to the lives of the individuals and to integrate their personalities with the society they were born in. The ancient seers and sages, gifted with light and resource, tried to transform the crude animal into a refined man with the help of the Samskars. As in Philosophy so in rituals, life is regarded as a cycle. From birth to death a Hindu person undergoes 16 Samskaras; and marriage is one of the most important among them.

Manu, the great sage enjoins, ‘Having spent the first quarter of one’s life in the house of the preceptor, the second quarter in one’s own house with the wife, and the third in the forest, one should take Sannyas in the fourth quarter, casting away every worldly tie.’

The sacrament of marriage impresses upon a person that earthly life is not to be despised; rather it should be consciously accepted and elevated to the level of a spiritual existence. This is the rich, noble heritage of Hindu ethos.

Thousands of Hindu families are settled outside India all over the world. They have strong ties with the Hindu culture and way of life, and feel that should, on such important occasions of life like marriage, avail themselves of the rich, noble heritage of Hindu thought. They like to perform the Samskara in the traditional Hindu way.

However, even those who are staying in India, know little Sanskrit. No wonder those who are not born in India, find it unfamiliar. For their convenience, Jnana Prabodhini has translated the rites into English. Similar English versions of Namakaran (naming ceremony ), Upanayana (thread ceremony ), Ganesha Pooja, Satyanarayana Pooja, are also available. Receptions are usually arranged to celebrate the joy of wedding. Gatherings of near and dear ones most certainly enhance the pleasure of the occasion. However, Hindu marriage ceremony is a sacred vow, an ennobling Samskara and it is advisable that the rites may be performed in the presence of a limited number, in a serene, quiet atmosphere and the other celebrations follow later.

Punyahavachan (calling the day auspicious), Sankalpa (expressing the desire to marry), Mangalsutrabandhana (adorning bride’s neck with the auspicious necklace, Panigrahan (receiving hands), Agnisaksha Pratijna (pledge before the fire), Lajahoma (sacrificing popped rice), Parikraman (perambulating the holy fire), Shilarohan (ascending the stone), Saptapadi (walking seven steps together) and Karmasamapti (concluding ceremony) are supposed to be the essential rites in marriage. Nakshatradarshan [soliciting the blessings of seven sages (stars) and Dhruva (pole star)], Griha Pravesh (the bride enters the in-laws’ house, and Lakshmipoojan are optional rites.

The whole content of marriage ceremony is rich with noblest thoughts. In Hindu tradition, marriage is not just a contract between two individuals. It is a union of two souls for their own betterment, for the betterment of their progeny, of their relations and the society at large. Grihasthashrama (life of the householder) is supposed to be the backbone of the society. It shelters all other Ashramas-phases of life. Ashramas and Purusharthas form the fabric of Hindu life.

Purusharthas are major goals to be attained in the life span for the attainment of Dharma (righteous life), Artha (material resources), Kama (fulfillment of natural desires), marriage is instrumental. Moksha (self-realization) is an individual pursuit,

Any gentleman or lady of good character belonging to any caste or creed can conduct the ceremony as a priest or a priestess.

The beauty and sublimity with which our forefathers formulated it are unmatched.

Stability is foundation of all relationships in Hinduism.

The cheap use and throw mentality is western concept.

Even relationships are being like use and throw nowadays with degraded social values and replaced gratitude.

Divorces are easy, live-in relationship is easy, sex is easy.

Our vedic heritage thought of stability and chastity in relationships.. hence the concept of marriage of janmas and not for this birth only.

Even servants were serving the master for generations. Even masters treated the servants with that trust. Stability is the key in relationships.

The western culture has destroyed all gratitude, chastity and stability in life. There is no sense of stability in life but just use and throw. Relationships are valued in terms of money. Just use and move forward for more money.

A conscious being makes a conscious choice to take next janma with same soul.

Devi and Ma Parvati are same soul in different janmas who both married Shiva.

Ma Laxmi is always consort of Shri Vishnu. All Shri Vishnu avatars have Ma Lakshmi incarnate as his partner.

Shri Rama and Ma Sita are a stable committed couple.

Gandhari decides to even blind-fold her eye for life when she found that Dhritrashtra was blind. That was her commitment and stability and not compulsion or requirement.

Mandodri is one of chaste women’s revered in Hinduism. Her chastity and stability ensured long life for Ravana.

An unconscious person in kali yuga makes unconscious choices and is stuck in maya matrix of materialism, is stuck in pleasures of his senses and cannot easily realize these sacred values and sacred truths.

 

These were part of lifestyle in Vedic times.

 


Friday, November 4, 2022

It's all about "Perspective"

 Indian Sweets carry Positive Psychology and Sweets 😋 


1. Jalebi

Your shape doesn't matter, 

your nature does .

No matter how messed up you look or life is , keeping a sweet tone will always help .


2. Rasgulla

No matter how much you are squeezed by circumstances,  never forget who you are . Come back to your original self . Be resilient.  


3. Boondi Ladoo

Every little drop of boondi matters. Similarly little and continuous  efforts can bring in  miraculous results.  

Continue doing little things, success will follow.


4. Soan papdi

Not everyone likes you, yet the maker doesn't stop to make you. 

Pursue your goals , irrespective of validation.  


5. Gulab jamun 

Your softness is not your weakness,  it can be your strength.  

Softness is a quality much appreciated, be proud of it.


6. Besan ka Ladoo

If you get shattered due to pressure,  you can always rebuild.  


It's a symbol of HOPE. No matter what goes wrong , we can always fix it

Wednesday, November 2, 2022

Happy & Blessed - Indian Mother of Two

Having 2 kids is such a blessing . . . because they entertain each other. Oh, and family outings are more fun, they look after each other as they get older, and all that other stuff.


But I’m going to give it to you straight: it’s not going to feel like a blessing in the beginning. And that’s OK because it’s only for a little while. During those first few months, it’s all about survival.

I wish someone had been honest with me about the beginning months with two kids, other than “You’ll be fine!” You will be fine, but it is definitely worth to prepare yourself for bringing home baby number two.


Single children are often pampered and spoiled. They don't know sharing and caring and most importantly they miss the love of one very important person in their lives; the sibling. Honestly, the petty fights, sharing food, going to school together, growing up together, seriously, it matters a lot! There is more to your life than just being in parents' laps. 
You explore many of your first-times with your siblings. There are a load of things which are dangerous to share with your parents, it is your siblings who come to rescue! Trust me, This is true! Blood relation is very strong and one gets a lifetime companion whom they can lean onto anytime.

To give you an example,
I have one cousin who had full focus of his parents. He rarely did chores, did not get to play with friends or others after dinner, and spent most of his time at study or watching TV. He spent every summer alone. Most of his friends had siblings, and he always lamented not having someone to share secrets with, or play with after dinner.

On the contrary I was the eldest of two. We spent countless hours pretending the floor was lava, made up secret languages to keep secrets from our parents and friends, and hid from monsters under each other’s beds. Even when we fought, we loved each other. We became best friends. I would not trade him for the world.

Rest it is your choice.

Women's Empowerment - Facts, Stories and How To Help

Empowerment doesn't mean smoking, drinking, exploring sexuality (like shown in Netflix's She) only, it means fighting against all the odds and coming out on top. Its about setting goals and achieving them, its about becoming A WINNER !!







Women’s empowerment can be defined to promoting women’s sense of self-worth, their ability to determine their own choices, and their right to influence social change for themselves and others.

It is closely aligned with female empowerment – a fundamental human right that’s also key to achieving a more peaceful, prosperous world.

Below mentioned are 7 principles can be used to empower women in the marketplace, workplace and community.

The seven Principles are:

  • Principle 1: Create high-level corporate leadership for gender equality
  • Principle 2: Treat all people fairly at work, respecting and supporting non-discrimination and human rights
  • Principle 3: Ensure the health, wellbeing and safety of all workers, whether male or female
  • Principle 4: Promote education, training and professional development for women
  • Principle 5: Implement supply chain, marketing practices and enterprise development that empower women
  • Principle 6: Champion equality through community initiatives and advocacy
  • Principle 7: Measure and report publicly on progress to create gender equality

Hindutv - Ek Vichardhara

 कई बार लोग हिन्दू धर्म और हिंदुत्व को एक ही मानते हैं, मगर ऐसा नही हैं. हिंदुत्व वीर सांवरकर द्वारा गढ़ी गई एक विचारधारा का नाम है उन्होंने कहा था सिन्धु नदी से समुद्र तट तक जो व्यक्ति इस भूमि को पितृभूमि और पुण्यभूमि स्वीकार करता है वही हिंदुत्व हैं. यह एक राजनीतिक विचारधारा भर थी जिसका जन्म १९२४ में सावरकर की किताब हिंदुत्व से होता हैं. जबकि सनातन हिन्दू धर्म तो ऋग्वैदिक काल से भी पुराना हैं. जो अपने आप में एक उपासना पद्धति अपने आचार विचार की प्रणाली हैं. इसलिए इन दोनों को एक समझने की बजाय दोनों को अलग अलग अर्थों में समझा जाना आवश्यक हैं. 

हिंदुत्व पर विचार अनमोल वचन Hinduism Quotes In Hindi

1#. हिंदुत्व एक मजहब न होकर एक सभ्यता हैं इसकी श्रेष्ठ अभिव्यक्ति धर्म कह कर की जाती हैं.

2#. हिंदुत्व सत्य का धर्म हैं.

3#. हिन्दू धर्म का वर्णन एक शब्द में इस प्रकार किया जा सकता हैं- उचित कार्य करना.

4#. हिंदुत्व मानवीय विश्वास की पालना हैं.

5#. हिन्दू सभ्यता प्रधानतः रहस्यात्मकता की सीमा तक आध्यात्मिक हैं

6#. हिंदुत्व क्या हैं- मानवता का सबसे प्राचीन धर्म, भारतीय लोगों का धर्म, जैन सिख एवं बौद्ध धर्म का जन्मदाता, जीवन जीने की विचारधारा जो इस लोक और परलोक दोनों पर आधारित हैं.

7#. माला से तुम मोती तोडा ना करो, धर्म से मुहं तुम मोड़ा ना करो, बहुत कीमती है श्रीराम का नाम, श्रीराम बोलना कभी न छोड़ा करो.

8#. हिन्दुओं ने युगों युगों से धर्म प्रचार के लिए शस्त्र नही शास्त्र का साथ लिया, शस्त्र केवल धर्म रक्षा के लिए उठाए हैं.

9#. हिन्दू धर्म उदारवादी है कट्टर नही, हिन्दू धर्म मानवता वादी है वर्गवादी नही, हिन्दू धर्म विकासवादी है जडवादी नही, हिन्दू धर्म विज्ञान सम्मत है अवैज्ञानिक नही, हिन्दू धर्म सर्वमंगलकारी है, सम्प्रदायवादी नही, हिन्दू धर्म लोकतान्त्रिक हैं अधिनायकवादी नही. अज्ञान से हिंदुत्व की ओर चले विश्व को शांतिमय और आनंदमय बनाए, हिंदुत्व को समझे माने और जीयें.

10#. देश काल परिस्थिति अनुसार दर्शन और विधि, आचार्य धर्म सबने अलग अलग बताया हैं, और इसलिए मूलभूत एकता को देखकर साथ चलना इस स्वभाव का नाम हिंदुत्व हैं.

हिंदुत्व पर सुविचार

हिंदुत्व शास्त्रों की आस्था है। धार्मिक मान्यता के साथ-साथ प्राचीन काल की अभिव्यक्ति है।


देश के एकत्व भाव की धारा हिंदुत्व में समाहित है। समाज की मूल धारा धर्म स्वरूप हिंदुत्व के रूप में दर्शित होती है।


चिरकाल से चली आ रही धर्म की रीति रिवाजों की कड़ी हिंदुत्व की देन है जिसमें समाज के लोगों के बनाए गए अनेक नियम दर्शित होते हैं।


विश्व की लोकप्रिय धर्मावली सभ्यता के रूप में हिंदुत्व का नाम अग्रणी है जो उदारवादी दृष्टि रखता है जिसमें विकास की छाप है, विज्ञान के संदर्भों के साथ-साथ मानवीय मान्यताओं को भी स्थान देता है।


हिंदुत्व लोगों द्वारा अपनाया गया मंगलकारी धार्मिक स्वरूप है जो एक लोकतंत्र की स्थापित प्रवृत्ति को समक्ष लाता है एवं धर्म के मूल तथ्यों से अवगत कराता है।


हिंदुत्व में धार्मिक अभिव्यक्ति के लिए शास्त्रों की मान्यता को सर्वोपरि माना गया है। समाज में हिंदू धर्म की अलौकिक व लौकिक दोनों की अभिव्यक्ति को महत्वपूर्ण माना गया है।


प्राचीन काल से वर्तमान काल तक हिंदुत्व की अनेक धाराएँ धर्म का मूल स्वरूप प्रतिपादित करती हैं जो शास्त्रों की विशिष्ट बातों को समक्ष लाती हैं।


ईश्वर की कृपा, मानवीय श्रद्धा हिंदुत्व के नाम से जुड़ी हुई है जो हिंदू धर्म के करोड़ों देवी देवताओं की आस्था का विश्वास स्वरूप प्रस्तुत करते हैं जो महत्वपूर्ण है।


धर्मों की भीड़ में हिंदू की अपनी एक पहचान है जहाँ सच का वास होता है और भक्ति का अनमोल रूप प्रस्तुत होता है।


हिन्दू धर्म का मूल उद्देश्य है अपने कर्मों का उचित प्रयोग करना एवं अपने अच्छे कर्मों से हिंदुत्व की नींव को सुदृढ़ करना।


विश्वास धर्म की नींव है और हिंदुत्व स्वरूप इस विश्वास को मानवीय रूपों में पालन करें तो सर्वोच्च स्थान को अंजाम दिया जा सकता है।


हिंदुत्व में आध्यात्मिक चेतना के विभिन्न आयाम प्रस्तुत होते हैं जो मनुष्य के अंतर्मन को आलोक प्रदान करते हैं।


भारतीय सभ्यता में हिंदू धर्म की नींव काफी पुरानी है जो समाज में धर्म के विकास का प्रारूप साबित होती है। मनुष्य के जीवन अनुभव के अवचेतन मन से हिंदुत्व की डोर जोड़ी है जो मानव कल्याण स्वरूप संसार की धार्मिक रीति से संबंधित है।


जिंदगी के कई अध्याय हिंदुत्व की डोर से जुड़े हैं जो जीवन को जीने की कला सिखाते हैं एवं अहिंसा व विश्वास के मार्ग की ओर प्रशस्त करते हैं।


हिंदुत्व में अन्य धर्मों का मान है जो सर्व धर्म की एकत्व भावना को दर्शाते हैं एवं सभी के प्रति मान सम्मान के भाव को अपनाते हैं। एकता स्वरूप हर धर्म को खुद से जुड़ा महसूस करते हैं एवम् सभी धर्म के प्रति उनके महत्व को जताते हैं।


हिंदुत्व में मनुष्य की आस्था स्वरूप ईश्वर के नामों का बखान है जो मनुष्यों की ईश्वरीय भक्ति और देवी देवताओं की गाथा का पवित्र समागम है।


हिंदुत्व का मूल धर्म उसकी श्रद्धा एवम् समर्पण भावना में निहित है जो मनुष्य की सच्ची आस्था का द्योतक होती है।


भारतवर्ष में हिंदुत्व की छाप सदियों पुरानी है जो अनेक कहानियों का लेखा-जोखा है जिसमें इतिहास रचा है एवं हिंदू धर्म के महत्व का संदर्भ समाहित है।


हिंदुत्व की सम्मान की भावना दूसरों के सम्मान में दर्शित होती है। अपने धर्म के प्रति सच्ची आस्था मानवीय मूल्यों की पहचान होती है।


हिन्दू धर्म के लिए सच्चा हिंदुत्व भाव सर्वोपरि माना जाता है जो मानव कल्याण से जुड़ा हुआ है ।


हिन्दू धर्म के लिए सच्चा हिंदुत्व भाव सर्वोपरि माना जाता है जो मानव कल्याण से जुड़ा हुआ है।


हिंदुत्व की नींव हिंदू धर्म को चलाने वालों व मानने वालों के कर्मों से जुड़ी है।


शूरवीरों की गाथा का धर्म हिंदू धर्म अपने हिंदुत्व की भावना से ओतप्रोत है।


हिंदुत्व का साम्राज्य असीमित है जो सभी धर्मों के मान का ख्याल कर अपनी विशेष उपाधि को समक्ष लाता है।


हिंदुत्व की भावना हिंदू धर्म के साथ-साथ अपने वतन हिंदुस्तान से जुड़ी है जो मज़बूत है एवं कई आयाम को मुकाम देती है।


हिंदू धर्म सर्वव्यापी है जिसमें सभी लोगों के हित की बात होती है। स्वार्थ से परे अपनत्व की भावना का समावेश होता है।


एक दूसरे की सहायता का भाव हिंदुत्व के स्वरूप में दिखाई देता है।


हिंदुत्व में मानव व धर्म कल्याण की बात कही जाती है जो महत्वपूर्णता का रूप प्रतिपादित करती है।


जहाँ आज़ाद हिन्द की बात होती है एवम् गर्व से जिसमें शंखनाद की स्वर ध्वनि प्रसारित होती है ऐसे हिंदुत्व की अपनी पहचान होती है।


अपने हिंदुत्व को गर्व की भावना से जाने न कि गलानिर्भाव से भरें क्योंकि हिंदुत्व समाज अपना अलग मोल स्थापित करता है।


हिंदुत्व यूँ ही महान नहीं होता है बल्कि दृष्टि व दृष्टि कोण में मान सम्मान की भावना होनी चाहिए।


हिन्दू धर्म अपनी महत्ता रखता है लेकिन अन्य धर्म भी महत्वपूर्ण हैं ऐसी सोच का रूप हिंदुत्व में नज़र आता है जो सच्चे हिंदुत्व के रूप को दर्शाता है।


हिंदुत्व कभी दुराचारी का साथ नहीं देता बल्कि अत्याचार के खिलाफ कदम उठाता है और आपत्तियों से गलत सोच को सही सोच की ओर प्रेरित करता है।


प्राचीन धार्मिक ग्रंथ, शास्त्र, पुस्तकें, अभिलेख हिंदुत्व की गाथा कहते हैं जो वर्तमान में महत्वपूर्ण उदाहरण प्रस्तुत करते हैं।


हिन्दू धर्म ने कितनी रीति रिवाजों को जन्म दिया एवम् कई कुरीतियों को बदला और नया रूप प्रस्तुत किया।


हिंदुत्व अपनी त्याग भावना व समर्पण के लिए महत्व रखता है।


हिंदुत्व में आपसी भेदभाव का भाव नहीं होता बल्कि श्रद्धा का भाव मूर्ति पूजा के ज़रिए पत्थर में भी ईश्वर स्वरूप के दर्शन कराता है।


हिंदू धर्म धार्मिक आस्था समक्ष रख अपनी प्रेम भावना को जगाता है और बैर की भावनाओं को महत्व नहीं देता है।


हिंदुत्व के सही अर्थ को जाने समझने वाला हिंदू धर्म की वास्तविक अनुभूति कर सकता है।


हिंदू धर्म हिंदुस्तान के झंडे को कभी झुकने नहीं देते, वीरों की भाँति हिंदुत्व की भावना से ऊँचा रखते है।


हिंदुत्व में देश की संस्कृति, भारत के धार्मिक आलेख, मानव के विचारों की प्रेरणादायक किस्से एवं महापुरुषों की गाथा समाहित है।


हिंदुत्व में प्रेम की भावना बसती है। आपसी मेलजोल की अथक लहर लहराती है जो मेल करना सिखाती है और एक दूसरे के सुख दुख का साथी बनना सिखाती है।


हिंदुत्व में जितना प्रेम है उससे अधिक अपने हिंदुस्तान की भक्ति है जिसका उद्घोष मुसीबत आने पर जान गवाने से भी पीछे नहीं हटता है।


हिंदुत्व में राम राज्य की गाथा है तो कृष्णा की लीलाएँ हैं, शिव पार्वती की महिमा है तो ब्रह्मा विष्णु की भक्ति है साथ ही कई त्यौहारों की आपसी सद्भावना मिलती है।


हिंदुत्व अपनी माँ की धरा पर जीता भी है और माँ की खातिर मर भी जाता है अपने आत्मसमर्पण की ज्योति दिखला जाता है।


हिंदुत्व का तन – मन – धन जात पात से परे एकता की भावना को प्रोत्साहित करता है।


मनुष्य में अगर बात मान की हो या मर्यादा की हिंदुत्व की बात हो तो सीमा नहीं लांघी जाती है, सकारात्मक पहलू का रूप अपनाया जाता है।


हिंदुत्व में हिंदुस्तान की देश भक्ति होती है। हिन्दू धर्म में भक्ति का सार होता है।


हिंदुत्व में अपनी मातृभाषा का प्यार बसता है। हिन्दू के रूप में हिंदुस्तान बसता है। जो एक सैनिक का रूप प्रस्तुत करता है तो कभी रक्षक साबित होता है।


हिन्दू धर्म में पवित्र ग्रंथ गीता पुराण है।


हिंदुत्व को गौरव पूर्ण बनाना चाहिए। घमंड की भावना से दूर सही विचार धाराओं का समावेश करना चाहिए।


संसार में हिंदुत्व की भावना जागृत होती है जैसे सभी धर्मों की एकता भरी वाणी बोलती है।

जरूर पढ़ें क्योंकि यह सत्य आपको भी अवश्य ही नहीं मालूम

बात उन दिनों की है जब हम कॉलेज में प्रथम वर्ष के छात्र थे. उस वक्त युवाओं में धर्म के प्रति इतना जोर नही था ना ही कोई ज्ञान. दशहरा बीत चुका था दीपावली समीप थी तभी एक दिन कुछ युवक युवतियों की टाइप टोली हमारे कॉलेज में आई.


उन्होंने स्टूडेंट्स से कुछ प्रश्न पूछे किन्तु एक प्रश्न पर कॉलेज में सन्नाटा छा गया.


उन्होंने पूछा जब दीपावली भगवान राम के 14 वर्ष के वनवास से अयोध्या लौटने की खुशी में मनाई जाती है तो दीपावली पर लक्ष्मी पूजन क्यों होता है ? राम की पूजा क्यों नहीं ?


प्रश्न पर सन्नाटा छा गया क्योंकि उस वक्त कोई सोशलमीडिया तो था नही, स्मार्टफोन भी नही थे किसी को कुछ नही पता. तब सन्नाटा चीरते हुए एक हाथ प्रश्न का उत्तर देने हेतु ऊपर उठा.


उसने बताया क्योंकि दीपावली उत्सव दो युग सतयुग और त्रेता युग से जुड़ा हुआ है. सतयुग में समुद्र मंथन से माता लक्ष्मी उस दिन प्रगट हुई थी इसलिए लक्ष्मी पूजन होता है. भगवान राम भी त्रेता युग मे इसी दिन अयोध्या लौटे थे तो अयोध्या वासियों ने दीप जलाकर उनका स्वागत किया था इसलिए इसका नाम दीपावली है. इसलिए इस पर्व के दो नाम है लक्ष्मी पूजन जो सतयुग से जुड़ा है दूजा दीपावली जो त्रेता युग प्रभु राम और दीपों से जुड़ा है.


उसके उत्तर के बाद थोड़ी देर तक सन्नाटा छाया रहा क्योंकि किसी को भी उत्तर नही पता था यहां तक कि प्रश्न पूछ रही टोली को भी नही. खैर सबने खूब तालियां बजाई. उसके बाद एक अखबार ने उनका इंटरव्यू भी लिया. उस समय अखबार का इंटरव्यू लेना बहुत बड़ी बात हुआ करती थी.


बाद में पता चला कि वो टोली आज की शब्दावली अनुसार लेफ़्ट लिबर्ल्स की थी जो हर कॉलेज में जाकर युवाओं के मन मस्तिष्क में हमारी संस्कृति के प्रति भ्रम पैदा करके हमारे छात्रों का ब्रेनवॉश कर रही थी. लेकिन हमारे उत्तर के बाद वह टोली गायब हो गई.

प्रश्न है

लक्ष्मी गणेश का आपस में क्या रिश्ता है ?

और दीवाली पर इन दोनों की पूजा क्यों होती है ?? 


सही उत्तर है


लक्ष्मी जी जब सागरमन्थन में मिलीं और भगवान विष्णु से विवाह किया तो उन्हें सृष्टि की धन और ऐश्वर्य की देवी बनाया गया तो उन्होंने धन को बाँटने के लिए मैनेजर कुबेर को बनाया। कुबेर बड़े ही कंजूस थे, वे धन बाँटते नहीं थे, खुद धन के भंडारी बन कर बैठ गए। 


माता लक्ष्मी परेशान हो गईं, उनकी सन्तान को कृपा नहीं मिल रही थी। उन्होंने अपनी व्यथा भगवान विष्णु को बताई। भगवान विष्णु ने उन्हें कहा कि तुम मैनेजर बदल लो, माँ लक्ष्मी बोली, यक्षों के राजा कुबेर मेरे परम भक्त हैं उन्हें बुरा लगेगा।

तब भगवान विष्णु ने उन्हें गणेश जी की विशाल बुद्धि को प्रयोग करने की सलाह दी। 

माँ लक्ष्मी ने गणेश जी को धन का डिस्ट्रीब्यूटर बनने को कहा, गणेश जी ठहरे महाबुद्धिमान। वे बोले:- माँ, मैं जिसका भी नाम बताऊंगा, उस पर आप कृपा कर देना, कोई किंतु परन्तु नहीं। माँ लक्ष्मी ने हाँ कर दी !

अब गणेश जी लोगों के सौभाग्य के विघ्न/ रुकावट को दूर कर उनके लिए धनागमन के द्वार खोलने लगे।

कुबेर भंडारी रह गए, गणेश पैसा सैंक्शन (स्वीकृत) करवाने वाले बन गए।

 

गणेश जी की दरियादिली देख माँ लक्ष्मी ने अपने भतीजे/ भांजे /मानस पुत्र श्रीगणेश को आशीर्वाद दिया कि जहाँ वे अपने पति नारायण के सँग ना हों, वहाँ उनका पुत्रवत गणेश उनके साथ रहें।


दीवाली आती है कार्तिक अमावस्या को, भगवान विष्णु उस समय योगनिद्रा में होते हैं, वे जागते हैं ग्यारह दिन बाद देवउठनी एकादशी को। माँ लक्ष्मी को पृथ्वी भ्रमण करने आना होता है शरद पूर्णिमा से दीवाली के बीच के पन्द्रह दिन, तो वे सँग ले आती हैं गणेश जी को, इसलिए दीवाली को लक्ष्मी गणेश की पूजा होती है।

🛕🛕

(यह कैसी विडंबना है कि देश और हिंदुओ के सबसे बड़े त्यौहार का पाठ्यक्रम में कोई विस्तृत वर्णन नही है और जो वर्णन है वह अधूरा है)

तुलसी कौन थी?

 तुलसी(पौधा) पूर्व जन्म मे एक लड़की थी जिस का नाम वृंदा था, राक्षस कुल में उसका जन्म हुआ था बचपन से ही भगवान विष्णु की भक्त थी.बड़े ही प्रेम से भगवान की सेवा, पूजा किया करती थी.जब वह बड़ी हुई तो उनका विवाह राक्षस कुल में दानव राज जलंधर से हो गया। जलंधर समुद्र से उत्पन्न हुआ था.

वृंदा बड़ी ही पतिव्रता स्त्री थी सदा अपने पति की सेवा किया करती थी.

एक बार देवताओ और दानवों में युद्ध हुआ जब जलंधर युद्ध पर जाने लगे तो वृंदा ने कहा -

स्वामी आप युद्ध पर जा रहे है आप जब तक युद्ध में रहेगे में पूजा में बैठ कर आपकी जीत के लिये अनुष्ठान करुगी,और जब तक आप वापस नहीं आ जाते, मैं अपना संकल्प

नही छोडूगी। जलंधर तो युद्ध में चले गये,और वृंदा व्रत का संकल्प लेकर पूजा में बैठ गयी, उनके व्रत के प्रभाव से देवता भी जलंधर को ना जीत सके, सारे देवता जब हारने लगे तो विष्णु जी के पास गये।

सबने भगवान से प्रार्थना की तो भगवान कहने लगे कि – वृंदा मेरी परम भक्त है में उसके साथ छल नहीं कर सकता ।

फिर देवता बोले - भगवान दूसरा कोई उपाय भी तो नहीं है अब आप ही हमारी मदद कर सकते है।

भगवान ने जलंधर का ही रूप रखा और वृंदा के महल में पँहुच गये जैसे

ही वृंदा ने अपने पति को देखा, वे तुरंत पूजा मे से उठ गई और उनके चरणों को छू लिए,जैसे ही उनका संकल्प टूटा, युद्ध में देवताओ ने जलंधर को मार दिया और उसका सिर काट कर अलग कर दिया,उनका सिर वृंदा के महल में गिरा जब वृंदा ने देखा कि मेरे पति का सिर तो कटा पडा है तो फिर ये जो मेरे सामने खड़े है ये कौन है?

उन्होंने पूँछा - आप कौन हो जिसका स्पर्श मैने किया, तब भगवान अपने रूप में आ गये पर वे कुछ ना बोल सके,वृंदा सारी बात समझ गई, उन्होंने भगवान को श्राप दे दिया आप पत्थर के हो जाओ, और भगवान तुंरत पत्थर के हो गये।

सभी देवता हाहाकार करने लगे लक्ष्मी जी रोने लगे और प्रार्थना करने लगे यब वृंदा जी ने भगवान को वापस वैसा ही कर दिया और अपने पति का सिर लेकर वे

सती हो गयी।

उनकी राख से एक पौधा निकला तब

भगवान विष्णु जी ने कहा –आज से

इनका नाम तुलसी है, और मेरा एक रूप इस पत्थर के रूप में रहेगा जिसे शालिग्राम के नाम से तुलसी जी के साथ ही पूजा जायेगा और में

बिना तुलसी जी के भोग

स्वीकार नहीं करुगा। तब से तुलसी जी कि पूजा सभी करने लगे। और तुलसी जी का विवाह शालिग्राम जी के साथ कार्तिक मास में

किया जाता है.देव-उठावनी एकादशी के दिन इसे तुलसी विवाह के रूप में मनाया जाता है !

इस कथा को कम से कम दो लोगों को अवश्य सुनाए आप को पुण्य अवश्य मिलेगा। या चार ग्रुप मे प्रेषित करें।

Friday, March 26, 2021

Diversity & Inclusion


In this rapidly changing corporate culture, diversity, equity and inclusivity are becoming the most sought-after values. While we all understand why diversity is required and its benefits to the company, statistics show that most of the companies do not have enough diversity. Diversity in the workplace results in new ideas, innovations, and better profitability.

 As per Boston Consulting, among Fortune 500 companies, only 24 are women. Same study indicates there are only three black and three gay and lesbian CEOs among 500 CEOs.

 Look around you, does your company appreciate and honor multiple cultural and religious practices? Does your company harbor bias or prejudices? Today most employees are looking for an inclusive and diverse workplace that benefits the company. An equal opportunity company is what all employees look for. But how do we achieve this? And, before changing the ideology on Diversity, Equity & Inclusion values in company, First let us ask ourselves, being a woman,  are women uniquely poised to excel at each role given to her?

 I don’t think women are so different from men that they are better or worse for the job in terms of traits or skill sets. I think we must look at people individually and see what he or she brings to the table in terms of assets. Women for the senior leadership role should have a right blend of personality traits, skills, and understanding of compliance regulations and concepts.

As we adapted to COVID-19 new normal and I reflect on the lessons learned, my biggest takeaway was the need to improve our planning. A global viral pandemic was an emerging threat that had been recognized for years. While we continue to manage the consequences of the pandemic, we must also find the discipline to start preparing for future threats. I’m challenging myself to improve our readiness for the next big disruption. By being ready for the next crisis, I mean being organizationally ready in every way: financially, operationally and culturally.

I recommend four critical behaviors to support our new, contemporary culture. We need to develop a deeper understanding and incorporate these behaviors into our work habits. These behaviors strengthen and improve the best part of our culture and ourselves. We are calling these behaviors as our Ways of Working forward:

  • Learn and adapt
  • Collaborate and share openly
  • Honor commitments
  • Respect and value others

By doing this an organization thinking about Diversity, Equity & Inclusion will be challenged and reformed significantly. Although I am proud of our culture and what I have achieved together so far in this journey, but there is more work we can do to drive greater long-term success for our organization. let’s practice our new Ways of Working in supporting Diversity, Equity & Inclusion values and hold each other accountable and transform our organization from “good to great.”

We must foster a culture where every voice is heard and there are no favorites. It is also crucial that there is no gender pay disparity and companies must be transparent about it to foster the employee's trust. People from different backgrounds and generations have very different perspectives. So, embrace these different thinking patterns and you will see new ideas and innovations. Diversity and inclusivity are not about checking some boxes but about creating a culture that inspires diversity and inclusivity.

Monday, January 4, 2021

Bye Bye 2020 - Take away COVID-19 with you



As 2020 comes to an end and we look back, the year has thrown innumerable challenges, but we stood strong, amidst all odds. We continued to keep our focus on our commitments, day on day, through the year. Each one has demonstrated our core values in supporting each other, doing the right thing, while working from home for the most part of the year. I would like to take this opportunity to specially thank all the efforts put in ensuring disciplined execution by our health workers, support staff, Police force, Vegetable, Milk & Grocery Vendors, while our family steered through these challenging times.

For whole India health and safety remain the top priority and we continue to take all possible measures, as we navigate through this pandemic. Special thanks to all loved ones at home for their remarkable support during these difficult times. I really wish speedy recovery for those who got affected by this pandemic and we will continue to provide all possible support.

A BIG Thank You to Narendra Modi Government for his focus, innovation, dedication, and passion, to make this happen and help us sail through these unprecedented times under his wise leadership. I encourage you to make best use of this time and take a well-deserved time off, to recharge, and spend quality time with your loved ones.

With this note Let us ring in 2021 with lots of optimism for a new tomorrow. Cheers to everyone & have a prosperous new year. Wishing you and your family a very happy new year and the best of health and happiness!

Can WFH really make better workplace?

Much hyped round of discussions going on WFH going to be New Normal and to be continued in 2021 has various aspects and let me put my two cents and views on this topic.

And Before coming to the point, I would like to stress upon Multi Tasking which is a myth as the switching of attention is a 4 step process that necessarily happens sequentially. And that's why we find ourselves saying - "Now where was I?' when interrupted in the middle of something. He says - A person who is interrupted takes 50% longer to accomplish a task and makes up to 50% more errors!

To me this is affecting many even more severely while working from home. Lack of a quiet and undistracted work area keeps robbing us of that focused attention we want to give to work and finish off tasks. Leaving us inefficient and forcing us to work longer hours.

Also, WFH is asking us to use home premises which is not originally meant to focus and concentrate like office setup as we are using spaces made for some other purpose of leisure and rest.

Friday, December 4, 2020

Staying Happy is HARD!




In a recent Linkedin post by Alok Kejriwal, I came to know "Staying Happy is INCREDIBLY HARD! It's so EASY to feel low & miserable".

Do a quick check yourself. Think of the day & what % of your mind has been occupied by worries, stress, guilt, pressure, jealousy, incompleteness VS the % of the time you've felt delighted or just happy. It's a miserable feeling being unhappy, but that's how we feel most of the time (save weekends).

Genetically, I think we are WIRED to worry. Imagine if we were sharing a Cave & stepped out without worrying. We would most probably get eaten by a lion or bitten by a cobra. Over the years, 'what will happen' has manifested as a core thought. Even though we may NEVER get eaten or bitten, we have imbibed the wonderful habit of worrying.

These are hacks that work wonderfully to LIFT your mind from low to high:

- 98% of our worries never fructify. But we spend 98% of our time worrying about them. Think through this.

- Reflect on your journey so far. Are you better off today vs 1 year or 5 years? If YES, rejoice. That's REAL tangible progress.

- When you envy someone, also envy their struggle & hardships (NOT known to you). If exposed, your envy may turn to pity!

- WORK hard on staying happy. Like fitness, its a HABIT you will need to cultivate.

So true..